शनिवार, 13 नवंबर 2010

** आत्म -सृजन **

भीख मांग करके  ,तो पेट भर सकोगे    ,
जीवन  को  गौरव ,नहीं दे  सकोगे  /-----------
तरस खाकर तुमको ,कोई देख लेगा  ,
अंखियों  के तारे नहीं बन  सकोगे   /---------
                  बनो संत ,सज्जन बनो तुम सिपाही , 
                  गुरुओं की शिक्षा  पर करके भरोषा  ,/
                 ना कोई ठगेगा   ,दोनों   जहाँ    में  ,
                  बनोगे विजेता, ना   खाओगे  धोखा  /
मांगोगे कब तक ?अपनी इज्जत का पर्दा ? 
खुला- अद्खुला तन   नहीं   ढक   सकोगे / -----
                 बारूदी- शक्ति  से   बाबर, हिंद    रौंदा ,
                 अंग्रेजों ने लूटा, तकनीकी, ज्ञान  लेकर  /
                 मेरे   दादा   को   हाथी   था  रटते  रहे  ,
                 ख़रीदे खिलौना , हम   सोना  को  देकर   /
          *******          *******     ******
                 नीम  ,हल्दी  हरे -वन  व् हर्बल , हमारे   ,
                 पेटेन्ट  , इनका     कराता    है    कोई   ,/
                 वासमती  , अंजी   ,उगाता      दोआबा   ,
                 डंकल   , का  डंडा   दिखाता है,  कोई  / 
घृणा   ना गयी, प्यार   आया   नहीं  ,
उजड़ोगे   फिर  तो  नहीं बस सकोगे  ---------
                चट्टान  जैसा   एक  भारत    बनाओ  ,
               जाति   ,धर्म  का  चलाओ   ना खंजर  /
               सबल राष्ट्र , हो  आत्मनिर्भर,  धरा   पर ,
               विषमता  हटाओ , प्रगति की डगर पर  / 
समय मांगता है  ,संभलना , तुम्हारा  !
वर्ना---
             टूटोगे   इतना ! फिर  जुड़  ना सकोगे   /-------
  
                                    उदय वीर सिंह   .
                                     १२/११/२०१०


4 टिप्‍पणियां:

संगीता स्वरुप ( गीत ) ने कहा…

बहुत अच्छी रचना ..सच्चा सन्देश देती हुई .

Sunil Kumar ने कहा…

सीधी सादी रचना अच्छी लगी

अशोक बजाज ने कहा…

सराहनीय रचना है .

DIMPLE SHARMA ने कहा…

बिलकुल सही लिखा साहब आपने, वैसे भी एक कहावत है "मरे सो मांगन जाये " सराहनीये प्रस्तुति sparkindians.blogspot.com