शनिवार, 13 नवंबर 2010

*लोकतंत्र के घून *

हाँथ   लोकतंत्र   के   कमजोर  हो   गए  ---------
जिनके ऊपर थी रखवाली, वे ही चोर हो गए  /-------
                देश  है   विमार,   उपचार   कहीं  दूर है  ,
                 नित्य, नव , लग रहीं  इसको    बीमारियाँ  /
                 घृणा ,द्वेष ,दंभ , का  विकार अभी गया नहीं  ,
                हवाला,व   घोटालों   की  बढ़ी रंगदारियां ,/
अपराधियों के हाँथ, लम्बी डोर हो गए --------
                 करके हत्या और लूट ,बे-सबूत, निर्दोष हैं  ,
                  कोई ना गवाह ,साक्ष्य उनके खिलाफ हैं  /
                 कौन गुस्ताख़ , होगा उनके   विरोध में  ,
                आयी  मौत उनकी या जीवन से उदास हैं   /
मिला   नहीं  न्याय ,रोते भोर हो गए  -------------
                 वेतन-भोगी कर्मियों से आयकर तो काट लिया  ,
                 आय  बे-हिसाब  उनपर  कोई ना लगाम  है  /
                 खरीदते और  बेचते है   देश और प्रदेश को ,
                 गद्दार,   देश-द्रोहियों  से  देश   परेशान  है /
अहिंसा   के पुजारी  , आदमखोर  हो गए  ---------
                 धन ,  और  बल ,का  प्रताप चहुँ  ओर है  ,
                 लाचार, बेबस, जनता का हो रहा शिकार है  /
                 योग्य, विद्वान जन, की होती नहीं पूछ अब   ,
                चाटुकार अपराधियों की  बनती सरकार है   /
भ्रस्टाचार रूपी चाँद, के चकोर हो गए  ----------
                 सीलिंग से   बचाने  हेतु मांगता है न्याय  ,
                 कोई झोपड़ी ,बनाने हेतु भूमि, बिन लाचार है ,/
                 शिक्षा ,और  स्वास्थ्य  के अभाव में ये देश है ,
                 करेगा   विकाश  कैसे  ?, देश ही विमार है   !
समता   और   ममता   कठोर  हो  गए -------

                                       उदय वीर सिंह .
                                        १२/११/२०१०

1 टिप्पणी:

deepak saini ने कहा…

बहुत बढिया
हमारे देश की यही विडम्बना है